शान्ति सरोवर सजाई गई चैतन्य देवियों की झाँकी अद्भुत है… न्यायमूर्ति चन्द्र भूषण बाजपेयी

  1. शान्ति सरोवर सजाई गई चैतन्य देवियों की झाँकी अद्भुत है… न्यायमूर्ति चन्द्र भूषण बाजपेयी

रायपुर, १० अक्टूबर, २०१८: न्यायमूर्ति चन्द्र भूषण बाजपेयी ने कहा कि प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय द्वारा विधानसभा मार्ग पर स्थित शान्ति सरोवर में सजाई गई नौ देवियों की चैतन्य झाँकी अद्भुत एवं दर्शनीय है। यहाँ पर माँ दुर्गा के नौ रूपों को अत्यन्त आकर्षक एवं जीवन्त स्वरूप में प्रस्तुत किया गया है।

न्यायमूर्ति श्री बाजपेयी झाँकी का अवलोकन करने के बाद अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। वह हाल ही में राज्य उपभोक्ता विवाद प्रतितोषण आयोग के अध्यक्ष होने के साथ ही हिदायतुल्ला राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय के कुलपति भी बनाए गए हैं। चैतन्य देवियों की झाँकी का शुभारम्भ न्यायमूर्ति बाजपेयी के साथ ही क्षेत्रीय निदेशिका ब्रह्माकुमारी कमला दीदी और वरिष्ठ राजयोग शिक्षिका ब्रह्माकुमारी सविता एवं प्रियंका बहन ने संयुक्त रूप से दीप जलाकर किया।

श्री बाजपेयी ने आगे कहा कि अपने सम्पूर्ण जीवनकाल में ऐसी सुन्दर, मनोहारी और जीवन्त झाँकी उन्होने पहली बार देखी है। यह नगरवासियों के लिए गौरव की बात है कि इतना सुन्दर आयोजन राजधानी में किया गया है। यहाँ आने के बाद व्यक्ति स्वयं को तनावमुक्त महसूस करने लगता है। यहाँ सचमुच बहुत अधिक शान्ति है।

उन्होंने कहा कि माँ दुर्गा के नौ रूपों की जीवन्त प्रस्तुति अत्यन्त सराहनीय है। विशेषकर इन देवियों के महत्व को दर्शाने के लिए की जाने वाली कमेन्ट्री रोचक है। उन्होंने सामाजिक जागृति के कार्यों के लिए ब्रह्माकुमारी संस्थान के प्रयासों की सराहना की।

इस अवसर पर क्षेत्रीय निदेशिका ब्रह्माकुमारी कमला दीदी ने बतलाया कि शान्ति सरोवर में विगत २० वर्षों से प्रतिवर्ष नवरात्रि पर चैतन्य देवयिों की झाँकी सजायी जाती है। जनता ने इसको खूब पसन्द किया है। यह झाँकी शान्ति सरोवर रायपुर में  १९ अक्टूबर, २०१८ तक रहेगी। इसमें भक्तजन प्रतिदिन शाम को ६ से रात्रि १० बजे तक चैतन्य देवियों के दर्शन कर सकेंगे। झाँकी में संगीतमय कमेन्ट्री के माध्यम से विशाल मंच पर विराजित शिवशक्तियों -मॉं दुर्गा, श्री लक्ष्मी, सरस्वती, काली, गायत्री वैष्णो देवी, मीनाक्षी, सन्तोषी माता और उमादेवी आदि की महिमा का लाइट एण्ड साउण्ड के माध्यम से मनमोहक प्रस्तुति विशेष आकर्षण का केन्द्र होती है।

प्रेषक : मीडिया प्रभाग,
प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय शान्ति सरोवर, रायपुर फोन: ०७७१-२२५३२५३, २२५४२५४

for media content and service news, please visit our website-
www.raipur.bk.ooo

शान्ति सरोवर में कल से सजेगी नौ देवियों की चैतन्य झाँकी

शान्ति सरोवर में कल से सजेगी नौ देवियों की चैतन्य झाँकी

रायपुर, ०९ सितम्बर,२०१८: प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय द्वारा नवरात्रि के अवसर पर विधानसभा मार्ग पर स्थित शान्ति सरोवर में बुधवार, १० से शुकवार, १९ अक्टूबर, २०१८ तक नौ देवियों की चैतन्य झाँकी सजायी जा रही है। इसमें भक्तजन प्रतिदिन शाम को ६ से रात्रि १० बजे तक चैतन्य देवियों के दर्शन कर सकेंगे। झाँकी का उद्घाटन राज्य उपभोक्ता प्रतितोषण आयोग के अध्यक्ष न्यायमूर्ति चन्द्र भूषण बाजपेयी करेंगे।
ब्रह्माकुमारी संस्थान द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार झाँकी में संगीतमय कमेन्ट्री के माध्यम से विशाल मंच पर विराजित शिवशक्तियों -मॉं दुर्गा, श्री लक्ष्मी, सरस्वती, काली, गायत्री वैष्णो देवी, मीनाक्षी, सन्तोषी माता और उमादेवी आदि की महिमा का लाइट एण्ड साउण्ड के माध्यम से प्रस्तुति विशेष आकर्षण का केन्द्र रहेगा। ब्रह्माकुमारी बहनें जिन्होंने
राजयोग की सतत् साधना और गहन तपस्या के फलस्वरूप मन की एकाग्रता एवं शारीरिक स्थिरता को यहाँ तक प्राप्त कर लिया है कि जब वह चैतन्य देवियों के रूप में विराजित होती हैं तो वह सजीव होते हुए भी एकदम निर्जीव मूर्तियों के समान प्रतीत होती हैं। कुछ पल उस वातावरण में बैठने से दर्शकों को उनके द्वारा प्रवाहित शान्ति और शक्ति के प्रकम्पनों की अलौकिक अनुभूति होती है।
इस अवसर पर जीवन में सच्ची सुख और शान्ति का अनुभव करने के लिए नवरात्रि
के बाद ब्रह्माकुमारी संस्थान के शान्ति सरोवर एवं चौबे कालोनी स्थित सेवाकेन्द्रों पर २० अक्टूबर से सात दिवसीय राजयोग अनुभूति शिविर का नि:शुल्क आयोजन किया गया है। इस शिविर में भाग लेने के लिए प्रात: ७ से ८.३० अथवा सायं ७ से ८.३० बजे में से किसी भी एक सत्र में भाग लेकर लाभ
उठाया जा सकता है।

प्रेषक : मीडिया प्रभाग,
प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय शान्ति सरोवर, रायपुर फोन: ०७७१- २२५३२५३, २२५४२५४

नकारात्मक विचार तनाव पैदा करते हैं … ब्रह्माकुमारी प्रियंका

नकारात्मक विचार तनाव पैदा करते हैं … ब्रह्माकुमारी प्रियंका
रायपुर, ३० सितम्बर : तनाव का प्रमुख कारण है नकारात्मक विचार। आज जीवन में नकारात्मकता का अंश इतना ज्यादा हो गया है कि हमारे विचार, दृष्टिकोण, भावनाएं और बोल आदि सब कुछ नकारात्मक हो गए हैं। इन्हीं नकारात्मक विचारों ने डायबिटिज, ब्लडप्रेशर, ह्ृदयरोग एवं डिप्रेशन जैसी बीमारियों को जन्म दिया है।

 यह विचार ब्रह्माकुमारी प्रियंका दीदी ने प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय द्वारा चौबे कालोनी में आयोजित राजयोग अनुभूति शिविर के उद्घाटन अवसर पर व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि आज जो चीज मनुष्यों के पास है, उसका सुख तो वह लेता नहीं है लेकिन जो चीज नहीं है, उसको वह प्राप्त करने में लगा रहता है।

उन्होंने बतलाया कि जिस व्यक्ति के जीवन में मिठास नहीं है और जो सदैव यह सोचता है कि सब उसी के अनुसार चलें तो ऐसे विचार डायबिटिज को जन्म देते हैं। जिस व्यक्ति ने अपने जीवन से खुशियों को समेट लिया है और जो सदैव ईष्र्या व नफरत की भावना से ग्रसित रहता है, उसे ह्ृदयरोग जकड़ लेता है। जो व्यक्ति बीती हुई बातों का बार-बार चिन्तन करता है और छोटी-छोटी बातों को सोच-सोच कर बड़ा बना देता है, उन्हें ही उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure) होने की सम्भावना अधिक होती है। उन्होंने बतलाया कि इस शिविर का उद्देश्य सिर्फ तनावमुक्त अथवा रोगमुक्त होना ही नहीं है बल्कि अपने जीवन को उद्देश्यपूर्ण बनाकर उसे एक नई दिशा देना है।

 इस शिविर के माध्यम से यह बतलाया जाएगा कि विचारों में परिवर्तन करके जीवनशैली में बदलाव कैसे लाया जावे। क्योंकि किसी के विचार ही उसके जीवन की दिशा तय करते हैं। उन्होंने तनाव से बचने के लिए चार सूत्र बतलाए। सकारात्मक चिन्तन, जब कोई विषम परिस्थिति आए तो यह सोचो कि यह समय भी निकल जाएगा, सभी के प्रति शुभ चिन्तन करना और ट्रस्टी होकर रहना।
शुभ भावना दिवस मनाने की जरूरत …
 ब्रह्माकुमारी प्रियंका दीदी ने तनाव से बचने के उपायों की चर्चा करते हुए कहा कि अपने विचारों को सकारात्मक बनाएं और साथ ही सभी के प्रति शुभ भावना रखें। इससे हमारे सम्बन्ध तो सुधरेंगे ही, स्वास्थ्य भी अच्छा हो जाएगा। आज संसार में शुभ भावना की बेहद कमी हो गई है। विश्व में अनेक दिवस मनाए जाते हैं जैसे कि पर्यावरण दिवस, महिला दिवस आदि। उसी प्रकार शुभ भावना दिवस मनाने की जरूरत है। कैलिफोर्निया में हुए अनुसंधान में यह पता चला कि संंसार में जितने लोग धूम्रपान तथा शराब के कारण रोगी बनते हैं, उससे कहीं ज्यादा लोग दूषित भावनाओं के कारण रोगी बन जाते हैं। ईष्र्या और नफरत की भावना ही कैंसर और हृदयरोग का कारण बनते हैं। तो क्यों न हम सबके प्रति  शुभ भावना रखें। मेडिकल साइन्स ने तो शुभ भावनाओं को सबसे अच्छा मेडिसीन (Healing Medicine) माना है।
 ब्रह्माकुमारी प्रियंका दीदी ने शिविरार्थियों को कहा कि सदैव यह याद रहे कि सभी आत्माएं एक परमात्मा की सन्तान हैं। और यह सारा विश्व एक सुन्दर परिवार की तरह है। हमारे सिर पर परमात्मा का कल्याणकारी हाथ है तो हमारी भावनाएं श्रेष्ठ बनी रहेंगी।
 प्रेषक : मीडिया प्रभाग, ब्रह्माकुमारीज, रायपुर
फोन: २२५३२५३, २२५४२५४

हास्पीटल को क्रोध मुक्त क्षेत्र बनाएं, लोगों की दुआएं अर्जित कर उनका विश्वास जीतें… ब्रह्माकुमारी शिवानी दीदी

हास्पीटल को क्रोध मुक्त क्षेत्र बनाएं, लोगों की दुआएं अर्जित कर उनका विश्वास जीतें… ब्रह्माकुमारी शिवानी दीदी

रायपुर, २९ सितम्बर: इण्डियन एकेडमी ऑफ न्यूरोलॉजी (IAN) के २६ वें वार्षिक अधिवेशन देश भर से आए चिकित्सकों को सम्बोधित करते हुए ब्रह्माकुमारी शिवानी दीदी ने हास्पीटल को क्रोध मुक्त क्षेत्र (नो एंगर जोन) में तब्दील कर मरीजों की दुआएं प्राप्त करने का आह्वान किया। इसके लिए चिकित्सकों को स्वयं का जीवन क्रोधमुक्त बनाना होगा। हास्पीटल का वातावरण मन्दिर की तरह शान्त और पवित्र होना चाहिए। ताकि हीलिंग इनर्जी बढ़े और मरीज जल्दी स्वस्थ हो सकें।
अपने छत्तीसगढ़ प्रवास के आखिरी दिन ब्रह्माकुमारी शिवानी दीदी और फिल्म अभिनेता सुरेश ओबेराय ने साइन्स कालेज ग्राउण्ड में स्थित दीनदयाल उपाध्याय ऑडिटोरियम में इण्डियन एकेडमी ऑफ न्यूरोलॉजी (IAN) के २६ वें वार्षिक अधिवेशन में भाग लिया। चर्चा का विषय था एम्पावरिंग हीलिंग माईण्ड्स (Empowering Healing Minds)।
ब्रह्माकुमारी शिवानी दीदी ने आगे कहा कि आज से पच्चीस साल पहले चिकित्सकों को भगवान का दर्जा प्राप्त था। किन्तु इस पवित्र व्यवसाय में सेवा भावना की बजाय व्यावसायिकता का भाव आ जाने से बहुत बदलाव आया है। जो हाथ पैर छूते थे, वही हाथ अब चिकित्सकों पर उठने लगे हैं। यह गहन सोच का विषय है कि समाज में चिकित्सकों के प्रति इतना बदलाव क्यों और कैसे आया? आप चेरिटी मत करो परन्तु जो भी करो सेवाभाव से करो। इससे लोगों की दुआएं मिलेंगी।
उन्होंने कहा कि दुआएं प्राप्त करना बहुत बड़ी सम्पत्ति है। मरीजों से पैसा लो लेकिन यह ध्यान रहे कि जो पैसा घर में जा रहा है उसके साथ मरीजों की दुआएं भी घर में आएंं। आपने बड़े-बड़े हास्पीटल्स बना लिए गाडिय़ाँ खरीद ली किन्तु यह सब चीजें यहीं रह जाएंगी। आत्मा के साथ सिर्फ आपके कर्म और संस्कार ही जाएंगे। इसलिए अपने संस्कारों को अच्छा और नेक बनाएं।
उन्होंने चिकित्सकों को राजयोग मेडिटेशन के लिए प्रेरित करते हुए कहा कि हास्पीटल का वायुमण्डल मन्दिर की तरह पवित्र और शान्तिमय बनाना यह आपकी व्यक्तिगत जिम्मेदारी है। इससे हीलिंग एनर्जी बढ़ जाएगी। उन्होंने पूछा कि लोग मन्दिरों में क्यों जाते हैं? क्योंकि मन्दिर का वातावरण शान्त होता है। ऐसे ही हास्पीटल का वायुमण्डल हमें बनाना चाहिए। हास्पीटल में धुसते ही मरीज का विश्वास हम पर बढ़ जाए। मरीज के मन से संशय और भय को निकालना होगा। उसका विश्वास जीतना होगा। वह आपके पास दु:ख दर्द लेकर आता है, दो प्रश्न ज्यादा पूछ लेता है तो आप नाराज न होकर उससे प्यार से बातें करें। इससे मरीज का आधा दु:ख तुरन्त ही कम हो जाएगा। इससे निगेटिव इनर्जी को कम करने में मदद मिलेगी।
ब्रह्माकुमारी शिवानी दीदी ने चिकित्सकों को दवा कम्पनियों आदि का अहसान नही लेने की सलाह देते हुए कहा कि यह बात याद रखों कि एहसान लेंगे तो झुकना पड़ेगा। बहुत लोग आएंगे जो कि आपको आई फोन ऑफर करेंगे, हालीडे ऑफर करेंगे किन्तु आप इन प्रलोभनों से स्वयं को बचाएं।
प्रेषक: मीडिया प्रभाग, प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय, रायपुर

for media content and service news, please visit our website-

www.raipur.bk.ooo

नवरात्रि से पहले अपनी आसुरी वृत्तियों का नाश करें… ब्रह्माकुमारी शिवानी दीदी

 

नवरात्रि से पहले अपनी आसुरी वृत्तियों का नाश करें… ब्रह्माकुमारी शिवानी दीदी

रायपुर, २८ सितम्बर: जीवन प्रबन्धन विशेषज्ञा ब्रह्माकुमारी शिवानी दीदी ने कहा कि नवरात्रि से पहले घर की सफाई के साथ-साथ अपने संस्कारों की भी सफाई करें। आसुरी वृत्तियों का नाश होने के बाद ही देवी का आह्वान करना चाहिए। यही नवरात्रि मनाने की विधि है। हमेशा सोचें कि मैं दिव्य और शक्तिशाली आत्मा हूँ। परमात्मा की सन्तान हूँ। इससे कमजोरियों को दूर करने में मदद मिलेगी।

ब्रह्माकुमारी शिवानी दीदी आज शाम को इण्डोर स्टेडियम में प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय द्वारा आयोजित वाह जिन्दगी वाह कार्यक्रम में अपने विचार व्यक्त कर रही थीं। ब्रह्माकुमारी शिवानी दीदी ने आगे कहा कि सारे दिन में हम जिन लोगों के सम्पर्क में आते हैं, उनकी कमी कमजोरियों का चिन्तन करते-करते वह हमारे चित्त का हिस्सा बन जाते हैं। इसलिए हमेशा दूसरों की विशेषताएं देखने की आदत डाल लेनी चाहिए। उन्होंने कहा कि पूजा मत करो बल्कि दैवी गुणों को धारण करके पूज्यनीय बनो।

उन्होंने कहा कि रोज सुबह उठकर मोबाईल चेक करने की बजाय परमात्मा का स्मरण करना चाहिए। हम लोग जीवन में छोटी-छोटी बातों को पकडक़र बैठ जाते हैं। चिन्तन करके उन कमजोरियों को निकालने का प्रयास करना चाहिए। उन्होंने सभा में उपस्थित लोगों से कहा कि आज उन कमजोरियों को स्वाहा कर दें। अपने श्रेष्ठ तकदीर का वाह-वाह करें। इससे ही जीवन में भी वाह-वाह होगी।

उन्होंने श्राद्घ के दिनों को याद करते हुए कहा कि यह हमें याद दिलाते हैं कि एक दिन हमें भी इस दुनिया से जाना है। हमें अपने संस्कारों को दिव्यता लाने का पुरूषार्थ करना चाहिए क्योंकि यही वह सम्पत्ति है जो कि आत्मा शरीर छोडऩे पर अपने साथ लेकर जाती है। यदि किसी वस्तु या वैभव में हमारी बुद्घि अटकी हुई होगी तो वही चीज हमें अन्त में हमें याद आएगी। परमात्मा याद नहीं आएगा। हमारा जीवन ऐसा होना चाहिए कि हम समाज में रहते हुए भी सबसे डिटैच्ड रहें।

फिल्म अभिनेता सुरेश ओबेराय ने सभा में उपस्थित लोगों को राजयोग मेडिटेशन सीखने का सुझाव देते हुए बतलाया कि मेडिटेशन से उनका जीवन में शान्ति की अनुभूति होती है। उन्होंने कहा कि पहले वह छोटी-छोटी बातों से चिढ़ जाते थे। देह अहंकार के कारण गुस्सा करना उनकी आदत बन चुका था। लेकिन ब्रह्माकुमारी संस्थान से जुडऩे के बाद उनका खान-पान, दिनचर्या, आदत सब कुछ बदल गया है। संस्कार बदलना बहुत मुश्किल होता है किन्तु राजयोग के अभ्यास से संस्कार बदल जाते हैं।

इस अवसर ब्रह्माकुमारी शिवानी और फिल्म अभिनेता सुरेश ओबेराय का कृषि एवं जल संसाधन मंत्री बृजमोहन अग्रवाल, मुख्य सचिव अजय सिंह, महापौर प्रमोद दुबे, रायपुर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष संजय श्रीवास्तव ने शॉल और श्रीफल भेंटकर अभिनन्दन किया।

समारोह को क्षेत्रीय निदेशिका ब्रह्माकुमारी कमला दीदी ने भी सम्बोधित किया। प्रारम्भ में ब्रह्माकुमार युगरत्न भाई ने स्वागत गीत प्रस्तुत कर सभी को भाव-विभोर कर दिया। संचालन छत्तीसगढ़ योग आयोग की सदस्या ब्रह्माकुमारी मंजू दीदी ने किया।

प्रेषक: मीडिया प्रभाग,
प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय, रायपुर
फोन:०७७१-२२५३२५३, २२५४२५४

मन को शक्तिशाली बनाने के लिए मेडिटेशन जरूरी… ब्रह्माकुमारी शिवानी दीदी

मन को शक्तिशाली बनाने के लिए मेडिटेशन जरूरी… ब्रह्माकुमारी शिवानी दीदी

रायपुर, २८ सितम्बर: ब्रह्माकुमारी शिवानी दीदी ने कहा कि सारा दिन काम करते -करते हमारे मन की शक्ति कमजोर होने लगती है। इसलिए उसे मेडिटेशन के द्वारा चार्ज करने की जरूरत है। समय निकालकर सोचें कि कौन सी बात है जो मुझे डिस्टर्ब करती है। सही सोचने का तरीका यह है कि मेरा मन वही सोचे और उतना ही सोचे जो कि जरूरी हो। मेरे मन का रिमोट मेरे पास हो।

ब्रह्माकुमारी शिवानी दीदी आज प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय द्वारा शान्ति सरोवर में आयोजित कार्यक्रम में यथार्थ सोचने की कला (Art of Right Thinking) विषय पर अपने विचार व्यक्त कर रही थीं। उनके साथ जाने-माने फिल्म अभिनेता सुरेश ओबेराय, क्षेत्रीय निदेशिका ब्रह्माकुमारी कमला दीदी, ब्रह्माकुमारी आशा और मुख्य क्षेत्रीय समन्वयक ब्रह्माकुमारी हेमलता दीदी भी उपस्थित थीं।

ब्रह्माकुमारी शिवानी दीदी ने आगे कहा कि हम सारी जिन्दगी सामान इक_ा करते रह गए , जिन्दगी में मकान, गाड़ी सब कुछ पाया लेकिन सुकून नही पाया। सुकून पाने के लिए रोज सुबह आधा घण्टा हम अपने लिए समय निकालें। प्रभु चिन्तन और स्व चिन्तन करें तो जीवन में सुकून आ जाएगा और घर मन्दिर बन जाएगा। हम लोग काम में इतने ज्यादा व्यस्त हो गए हैं कि हमें अपने बारे में सोचने का समय ही नहीं है। इसलिए समाज में डिप्रेशन और कैंसर बहुत तेजी से फैल रहा है।

उन्होंने बतलाया कि मन जब बहुत थका हुआ होता है तो सुबह उठने के बाद भी और सोने का मन करता है। इसका प्रमुख कारण है कि शरीर का आराम तो पूरा हो गया किन्तु मन को पूरा आराम नहीं मिल पाया। नींद पूरी नहीं होने से वह रात में भी सक्रिय रहा है। उन्होंने बतलाया कि विश्व में इस समय सबसे अधिक बिकने वाली दवा नींद की गोली है। अगर हम लोगों ने अपने उपर समय रहते ध्यान नहीं दिया तो हमें भी नींद की गोली खाकर सोना पड़ेगा।

फिल्म अभिनेता सुरेश ओबेराय ने बतलाया कि ब्रह्माकुमारी संस्थान में मेडिटेशन सीखकर उनके जीवन में बहुत शान्ति आ गई। पहले उनका व्यक्तित्व बहुत अधिक रौबदार था। उन्हें बात-बात में क्रोध भी बहुत अधिक आता था। घर में लोग उनके पास आने से डरते थे लेकिन मेडिटेशन करने से जीवन ही बदल गया। अब घर में भी सुख और शान्ति आ गई है। मेडिटेशन से मन और जीवन दोनों शान्त हो जाता है।

समारोह में पूर्व लोकायुक्त न्यायमूर्ति एल. सी. भादू, पूर्व मुख्य सचिव शिवराज सिंह, मेउिकल कालेज की डीन डॉ. आभा सिंह, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक अरूण देव गौतम सहित बड़ी संख्या में गणमान्य नागरिक उपस्थित थे। सभा का संचालन ब्रह्माकुमारी अनिता दीदी ने किया।

प्रेषक: मीडिया प्रभाग
प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय रायपुर
फोन: २२५३२५३, २२५४२५४

for media content and service news, please visit our website-
www.raipur.bk.ooo

ब्रह्माकुमारी शिवानी और फिल्म अभिनेता सुरेश ओबेराय  का इण्डोर स्टेडियम में उद्बोधन समारोह कल (२८ सितम्बर को)

ब्रह्माकुमारी शिवानी और फिल्म अभिनेता सुरेश ओबेराय
का इण्डोर स्टेडियम में उद्बोधन समारोह कल (२८ सितम्बर को)
रायपुर, २७ सितम्बर: प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय द्वारा कल शुक्रवार, २८ सितम्बर को शाम ६.३० बजे श्याम टॉकीज के निकट स्पोर्ट्स काम्प्लेक्स स्थित इण्डोर स्टेडियम में राजयोगिनी ब्रह्माकुमारी शिवानी दीदी और जाने-माने फिल्म अभिनेता सुरेश ओबेराय का दिव्य उद्बोधन समारोह -वाह जिन्दगी वाह का आयोजन किया गया है। विषय होगा- सुखद और तनावमुक्त जीवन का आधार।
पत्रकारों को यह जानकारी देते हुए क्षेत्रीय निदेशिका ब्रह्माकुमारी कमला दीदी ने बतलाया कि ब्रह्माकुमारी शिवानी दीदी शुक्रवार, २८ सितम्बर को सुबह इण्डिगो के नियमित विमान द्वारा सुबह ९.३० बजे रायपुर पहुचेंगी। पश्चात शाम को  ६.३० बजे इण्डोर स्टेडियम बुढ़ापारा में आम जनता के लिए आयोजित सार्वजनिक कार्यक्रम वाह जिन्दगी वाह में हिस्सा लेंगी। उल्लेखनीय है कि ब्रह्माकुमारी शिवानी दीदी का छत्तीसगढ़ में यह चौथा प्रवास है। इसके पहले वह शान्ति सरोवर और विधानसभा में आयोजित कार्यक्रमों में व्याख्यान देने आ चुकी हैं।
ब्रह्माकुमारी कमला दीदी ने बतलाया कि शनिवार, २९ सितम्बर को सुबह ६.३० बजे ब्रह्माकुमारी शिवानी दीदी और सुरेश ओबेराय दीनदयाल उपाध्याय ऑडिटोरियम साईन्स कालेज ग्राउण्ड में इण्डियन एकेडमी ऑफ न्यूरोलॉजी (IAN) के २६ वें वार्षिक अधिवेशन के अवसर पर आयोजित समारोह में च्च्एम्पावरिंग हीलिंग माईण्ड्सज्ज् (Empowering Healing Minds) विषय पर अपने विचार रखेंगे।
उन्होंने अवगत कराया कि  ब्रह्माकुमारी शिवानी दीदी आस्था, संस्कार और पीस ऑफ माइण्ड जैसे आध्यात्मिक चैनलों में प्रसारित होने वाले कार्यक्रम अवेकनिंग विथ ब्रह्माकुमारीज (Awakening With Brahma Kumaris) की मुख्य वक्ता हैं। सकारात्मक सोच, तनावमुक्त जीवनशैली, जीवन मूल्य और आन्तरिक शक्ति की खोज जैसे विषयों पर अपने प्रभावशाली, ओजस्वी एवं वैज्ञानिक दृष्टिकोण के साथ व्याख्यान प्रस्तुत करने के लिए ब्रह्माकुमारी शिवानी दीदी देश-विदेश में अत्यन्त मशहूर हैं। उन्होंने जीवन के विभिन्न पहलुओं का गहन अध्ययन और विश्लेषण किया है। जो कि उनके व्याख्यानों से स्पष्ट अनुभव होता है। शिवानी दीदी को सुनना ऐसा मोहक अनुभव है जो कि किसी भी व्यक्ति को उनके जीवन की समस्याओं के सटीक समाधान का अनुभव कराता है।
इसके अलावा दो दर्जन से अधिक कार्पोरेट संस्थान जैसे कि मारूति, एस्कार्ट्स, इफ्को, एन.टी.पी.सी., एन.एच.पी.सी., गोदरेज, रिलैक्सो, पारले जी, आदि-आदि संस्थानों में व्यक्तिगत कौशल और जीवन उर्जा जैसे विषयों पर निरन्तर संवाद, सेमीनार तथा व्याख्यान आयोजित करने के लिए उन्हें आमंत्रित किया जाता है।
३० सितम्बर से राजयोग शिविर
रविवार, ३० सितम्बर से शान्ति सरोवर सड्ढू और विश्व शान्ति भवन चौबे कालोनी में सात दिवसीय राजयोग शिविर रखा गया है, जिसमें नि:शुल्क राजयोग की शिक्षा दी जाएगी। शिविर का समय सुबह और शाम ७ से ८.३० बजे होगा। शिविर में भाग लेने वालों के लिए पंजीयन की व्यवस्था इन्डोर स्टेडियम में की जाएगी।
प्रेषक: मीडिया प्रभाग, प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय, रायपुर
for media content and service news, please visit our website- 
www.raipur.bk.ooo

ब्रह्माकुमारी संस्थान के सदस्यों ने स्वच्छता अभियान में भाग लिया

 

ब्रह्माकुमारी संस्थान के सदस्यों ने स्वच्छता अभियान में भाग लिया

रायपुर, १७ सितम्बर, २०१८: स्वच्छता ही सेवा अभियान के अन्तर्गत प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय द्वारा विधानसभा रोड पर शान्ति सरोवर के आस-पास सड़क किनारे व नाली की सफाई की गई। नाली में घास उग आने से मिट्टी और अन्य कचरा जमा हो रहा था जिसके कारण पानी का बहाव रूक गया था। अब घास और मिट्टी की सफाई हो जाने से पानी के निकलने का रास्ता साफ हो गया है।

इसके अलावा सड़क से धूल की भी सफाई कर उसे उठाया गया। ताकि गाडिय़ों के आने-जाने से मार्ग में धूल न उड़े। अभियान में ब्रह्माकुमारी सविता दीदी, किरण दीदी और भूमिका दीदी सहित शान्ति सरोवर के लोगों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। इस कार्य में नगर पालिक निगम के कर्मचारियों ने भी काफी सहयोग किया। बाद में निगम की गाड़ी से सारा कचरा उठाकर ले जाया गया।

उल्लेखनीय है कि ब्रह्माकुमारी संगठन की मुख्य प्रशासिका दादी जानकी को प्रधानमंत्री द्वारा स्वच्छता अभियान का ब्राण्ड एम्बेसेडर बनाया गया है। जिसके अन्तर्गत संस्थान के सदस्यों द्वारा मानसिक स्वच्छता के साथ-साथ पर्यावरण की स्वच्छता पर विशेष जोर दिया जा रहा है।

प्रेषक: मीडिया प्रभाग,
प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय शान्ति सरोवर, विधानसभा रोड, रायपुर